मेरा शौक/ मेरी रूचि पढ़ना | पढ़ने का महत्व (mera shauk nibandh in hindi)

आज के युग मै ज्ञान ही शक्ति है। इसलिए पढ़ने का महत्व भी बोहोत है। मुझे पढ़ने मै काफी रुचि है, पढ़ना मेरा शौक है। शौक मतलब ऐसी चीज जिसे करने मै आनंद मिलता हो। शौक पैसे कमाने के लिए नहीं बल्कि थके हुए शरीर को नई ऊर्जा दिलाने के लिए किया जाता है। कुछ शौक महंगे होते है तो कुछ काम खर्चे मै भी ही जाते है। पढ़ना यह सबसे कम खर्चे मै किया जाने वाला शौक है। 


अंग्रेजी में एक कहावत है कि 'रीडिंग मेक्स मेन परफेक्ट' इसका मतलब होता है कि किताबे इंसान को योग्यता देती है। किताबे हमें ज्ञान देती है। यह हमें नैतिक सलाह भी देती है। किन्तु अगर हमारी पसंद अच्छी नहीं है तो हम इसका पूरा फायदा नहीं उठा सकते। ग़लत सामग्री वाली किताबे मै नहीं पढ़ता। महान लेखकों द्वारा लिखी गई पुस्तके मेरे मस्तिष्क और तेज बनाती है। साथ ही सोचने के लिए भी प्रेरित करती है। मुझे लगभग सभी विषयों की किताबे पढ़ना पसंद है। आत्मचरित्र और दार्शनिक किताबे मुझे ज्यादा पसंद आती हैं। इसके अलावा मुझे यात्रा पर लिखी गई किताबे भी पसंद है। यह किताबे मुझे पूरी दुनिया की सैर कराती है। पढ़ने से ज्ञान और आनंद दोनोही मिलते है। किताबो ने मुझे नम्रता दी है। इस कारण पढ़ना मेरा शौक ही बन गया है। 


महान लेखकों द्वारा लिखी गई किताब मुझे ज्ञान देती है। अगर मुझे एक बार पढ़कर किताब समझ नहीं आयि तो मै उसे दुबारा पढ़ता हूं। और तबतक पढ़ता रहता हूं जबतक की वो भी मुझे पूरी तरह समझ मै ना आए। किताबे एक तरह से हमारे दिमाग को खाना देने का काम करती है। जिस व्यक्ति की पसंद किताबे पढ़ना हो वो कभी भी अकेला नहीं रहता। 


आखिर मै निष्कर्ष यही निकलता है कि किताबे पढ़ना या सबसे अच्छा शौक है। इसमें दौराय नहीं की किताबो की कीमतें दिन ब दिन बढ़ रही है। पर हम लोग लाइब्रेरी से भी किताबी ले कर पढ़ सकते हैं। पढ़ने के लिए दूसरा कुछ नहीं लगता, पढ़ने का यह शौक मै हमेशा रखूंगा और आप सबको भी मेरी सलाह है कि आप भी पढ़ने का शौक बनाइए।


Post a Comment

और नया पुराने